रचना आमंत्रण

डॉ. सागर पर केन्द्रित अंक के लिए रचनाएँ आमंत्रित हैं. अंतिम तिथि : 30 मार्च 2021

रचना भेजने के न्यूनतम नियम :

  1. केवल एमएस-वर्ड में टंकित की हुई रचनाएँ ही स्वीकृत की जाएंगी, हस्तलिखित अथवा ई-मेल में टंकित की हुई रचनाएँ बिना किसी सूचना के अस्वीकृत कर दी जाएंगी।
  2. अपनी रचनाएँ ‘एरियल यूनिकोड़ एमएस’/लोहित फॉन्ट/ कृतिदेव 10 एवं फॉन्ट आकार 14 में ही टंकित कर के भेजें।
  3. अपने आलेख/शोध-आलेख न्यूनतम 2000 से अधिकतम 5000 शब्दों में ही भेजें ।
  4. अपनी रचना को एक ही ई-मेल में एमएस-वर्ड एवं पीडीएफ दोनों रूपों में भेजें।
  5. रचना प्राप्ति की सूचना का अर्थ रचना -प्रकाशन के लिए स्वीकार होना नहीं होगा, अतः रचना के समीक्षित (पीअर रिव्यू) के पश्‍चात ही रचना को स्वीकार/अस्वीकार किया जाएगा।
  6. रचना के पीअर रिव्यू होने के पश्‍चात सुझाव/बदलावों तथा रचना को अन्तिम रूप देने के लिए ई-मेल का यथासमय पर उत्तर देकर पत्रिका के समय पर प्रकाशित होने में सहयोग प्रदान करें।
  7. एक अंक में प्रकाशित करने के लिए एक ही विधा में रचना भेजें।
  8. अपनी रचनाएँ केवल parivartanpatrika@gmail.com पर ही भेजें।
  9. सम्पादकीय मंडल अथवा परामर्श मण्डल के ई-मेल पते पर भेजी गई रचनाएँ प्रकाशन के लिए विचारणीय नहीं होंगी।
  10. अपनी रचना भेजते समय वर्ड फाइल के पहले पृष्ठ पर अपना नाम, पता, फोन/मोबाइल क्रमांक व ईमेल पता लिखें।
  11. हम रचनाकारों को किसी भी प्रकार का मानदेय/रकम नहीं प्रदान करते हैं और न तो किसी भी प्रकार की फीस/प्रकाशन चार्ज वसूलते हैं, अतः इस संदर्भ में किसी भी प्रकार की बातचीत/चर्चा के लिए संपर्क न करें।
  12. विशेषांक/अंक के विषय को ध्यान में रखकर ही अपनी रचनाएँ भजें। विशेषांक आदि की जानकारी के लिए ‘रचना-आमंत्रण’ एवं हमारे फेसबुक पेज https://www.facebook.com/parivartanpatrika को समय – समय पर देखते रहें।