वर्तमान अंक

रचना आमंत्रण अंतिम तिथि : 30 मार्च 2021
हिंदी और भोजपुरी के लोकप्रिय
गीतकार डॉ. सागर पर विशेषांक
(वर्ष 5 अंक 20 अक्टूबर-दिसम्बर 2020) डाउनलोड करने के लिए फोटो पर क्लिक करें.

अनुक्रमणिका

संपादकीय/महेश सिंह1-3
साहित्य और संस्कृति   
राजनीति से दूर होता साहित्यिक व सांस्कृतिक विमर्श राजनीति में हाशिये पर साहित्य/    कृष्ण कुमार यादव4-7
डॉ. रामविलास शर्मा के महत्व के कुछ बिंदु/अजय चन्द्रवंशी8-12
महिलाओं की राजनीतिक भागीदारी और महात्मा गांधी :  ऐतिहासिक परिपेक्ष्य/डॉ. चयनिका उनियाल पन्डा13-18
गाँधीजी का भाषा चिंतन/डॉ. मीना19-23
डॉ. भीमराव अम्बेडकर : एक समाज सुधारक/मनीष कुमार कुर्रे24-33
कबीर के काव्य में लोक दर्शन/डॉ. अमरेन्द्र कुमार श्रीवास्तव34-41
हिन्दी आलोचना और मीरा की कविता/अशोक कुमार यादव42-47
हिंदी साहित्य में संत रविदास का स्थान/आरती शर्मा48-54
धूमिल की कविताओं का ध्वनि स्तरीय शैलीचिह्नक विश्लेषण/सुशील कुमार55-69
खेती : ‘मरज़ाद’ और मौत का सामूहिक उत्सव/रामलखन कुमार70-76
लाल लकीर : बस्तर आदिवासियों की कसैली ज़मीनी हक़ीक़त/डॉ. विजी.वी77-86
दिनकर का बाल साहित्य/खुशबू कुमारी87-92
पुरुषसत्तात्मक समाज में स्त्री (एक कहानी यह भी’ के संदर्भ में)/रेश्मा .एम .एल93-97
सुशीला टाकभौरे कृत ‘नीला आकाश’ उपन्यास में दलित जीवन का परिपेक्ष्य/उषा यादव98-102
मुख्यधारा का साहित्य और आदिवासी साहित्य की वैचारिकता/डॉ. अमित कुमार साह103-111
मुंबई का जीवन : महानगर की मैथिली/ स्मृति कुमारी सिंह112-114
आखिरी कलाम: भारतीय राजनीति का सच/डॉ. मुल्ला आदम अली115-124
थर्ड जेंडर : उपेक्षित एवं अनदेखे वर्ग की अनकही कथा/तबस्सुम125-128
समकालीन कहानी का सामाजिक सरोकार/डॉ. दीप्ति ए एस129-134
स्त्री आत्मकथा – अस्मितासंघर्ष तथा आत्मनिर्भर स्त्री/डॉ. गफार सिकंदर मोमीन135-137
‘कसप’ में अभिव्यक्त रोमान और यथार्थ/शिखा138-142
मैला आँचलः लोक जीवन का आख्यान/डॉ. विनीता शुक्ला143-150
आंचलिक उपन्यास की अवधारणा और परती-परिकथा/मीनाक्षी मिश्रा151-156
विज्ञापन की भूमिका में हिन्दी का स्थान/बीना रानी157-161
 लोक गीतों में ओड़िशा के कुटिया कोंध आदिवासियों का जीवन/डॉ. भूषण पुआला162-166
हिन्दी कविता में गजल की जरूरत/डॉ. जियाउर रहमान जाफरी167-172
रंगमंच और सिनेमा   
सिनेमा एवं नाटक में दृश्य-विन्यास की अवधारणाः एक विश्लेषण/अभिषेक सिंह173-178
हिंदी सिनेमा और आदिवासी जीवन से जुड़े विविध प्रश्न/डॉ. प्रवीण वसंती179-186
कविता  
डॉ. जया आनंद की कविताएँ 187-188
धर्मपाल महेंद्र जैन की कविताएँ 189-191
आकांक्षा यादव की कविताएँ 192-193
 शीला तिवारी की कविताएँ 194-196
रमेश धोरावत की कविताएँ 197-199
अशोक आशीष की कविताएँ 200-201
महेश कुमार केशरी की कविताएँ 202-205
लाल देवेद्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ 206-208
कहानी   
हाँ की शक्ति/विनोद नायक209-216
खाओ और खाने दो/सुषमा मुनीन्द्र217-228
ऑफिसर/अमरेन्द्र सुमन229-232
पुस्तक समीक्षा  
समकालीन इतिहास से बखूबी रूबरू करवाता है व्यंग्य संकलन ‘लेखक की दाढ़ी में चमचा’/दीपक गिरकर233-237