वर्तमान अंक

रचनाएँ ऑनलाइन पढ़ने के लिए क्लिक करें

सूचना :

अंक 25 ‘जनवरी-मार्च 2022’ (‘नई आमद : हिंदी कविता’ विशेषांक) के लिए रचनाएँ आमंत्रित हैं

वर्तमान अंक

अंक 24 (अक्टूबर-दिसंबर 2021) का फुल पीडीऍफ़ डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए फोटो पर क्लिक करें.

अनुक्रमणिका

संपादकीय 
आज के समय की सबसे बड़ी गाली है, ईमानदारीडॉ. महेश
साक्षात्कार 
हिजड़ा समुदाय को लोग केवल ब्लेसिंग के लिए अच्छा मानते हैंडॉ. सविता शर्मा
हिन्दी ग़ज़ल की परंपरा एवं विकास : दशा एवं दिशाडॉ. जुगुल किशोर चौधरी
आलेख/शोध-आलेख 
हिन्दी भाषा की जातीय पहचान : राष्ट्रीय संदर्भ और अंतर्विरोधडॉ. एस.पद्मप्रिया
लोक साहित्य की उपादेयताभरत सिंह
नई कविता के कला शिल्प निर्माण में शमशेर की कविता का योगदानडॉ. अशोक कुमार मीणा
समकालीन हिंदी कविता में राष्ट्रवादडॉ. शिराजोद्दीन
नागार्जुन के काव्य में व्यंग्य : पुनर्मूल्यांकननौशाद अली
महानगरीय जीवन यथार्थ : समकालीन कविता के परिप्रेक्ष्य मेंमारिया जेवेल के.जे
मध्य भारत का आदिवासी स्वर : अन्ना माधुरी तिर्कीपुनीता जैन
उर्दू के विकास में प्रेमचंद का योगदान डॉ. शबनम तब्बसुम
हिन्दी ग़ज़ल में दलित चेतनाडॉ. जियाउर रहमान जाफरी
नानक दर्शन में ज्ञान व शिक्षा का महत्त्वडॉ. रविन्द्र गासो
संत साहित्य में लोक मंगल की भावनामनीष कौशल
संत साहित्य की प्रासंगिकताछविंदर कुमार
कृष्ण-भक्ति काव्य की लोक-दृष्टिडॉ. महेश सिंह
स्वच्छ भारत और कहानी स्विमिंग पूलडॉ. प्रिया कुमारी
स्त्री अस्मिता : आदिवासी हिंदी कहानी के संदर्भ मेंऐश्वर्या अनिलकुमार
पंकज बिष्ट का समय एवं समाज से सम्बन्धित दृष्टिकोणडॉ.सुरजीत सिंह वरवाल
मुक्ति योद्धा कथाकार महुआ माजीडॉ. कुमारी उर्वशी
रेणु के मैला आँचल में सामाजिक चेतनाराजेन्द्र परदेसी
 सांप्रदायिक सौहार्द की स्थापना में बहुत ही रोचक उपन्यास : ‘नीलू नीलिमा नीलोफर’डॉ. मुल्ला आदम अली
दर्द, पीड़ा और तिरस्कार की गुंज : तीसरी तालीडॉ. सविता शर्मा
‘गुलामगीरी’: धार्मिक बेड़ियों से आजाद करने का एक घोषणा पत्रदेवी प्रसाद  & अलोक कुमार
स्त्री के दुख की अकथ गाथा का दस्तावेज : देह ही देशमनोज शर्मा
मेरा बचपन मेरे कंधों पर :  “बचपन के अदम्य साहस की आत्मकथाविरेश ‘श्रीराजे’
वर्तमान दौर में गांधी की प्रासंगिकतानिधि
ऑस्ट्रेलिया का संक्षिप्त इतिहासडॉ. कुसुम संतोष विश्वकर्मा
सिनेमा 
किसानों के मुद्दों से मुखातिब सिनेमाराकेश कबीर
मलयालम सिनेमा में हाशियेकृत अल्पसंख्यक (सिनेमा ‘ञान मेरिक्कुट्टी’ और ‘अर्धनारी’ के संदर्भ में)ग्रीष्मा एलिज़बथ के.ए
फैशन फिल्म में बाजारवाद और देह मुक्ति के प्रश्न मनीषा गिरी
यात्रा-वृतांत 
पर्वतों की रानी: मसूरीडॉ. उर्मिला शर्मा
कहानियाँ 
एक मोड़ परहिमाँशु पाठक
ज़मीरडॉ. रंजना जायसवाल
बिस्तर बिरयानीश्यामल बिहारी महतो
बुआबलविन्दर ‘बालम’
कविताएँ 
डॉ. लोकेन्द्रसिंह कोट की कविताएँ  
लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ   
सुशील कुमार तिवारी की कविताएँ    
मोतीलाल दास की कविताएँ   
मनीष मीणा की कविताएँ   
पुस्तक-समीक्षा 
जीवन जिस धरती का : ज़मीन से जुड़ी कविताएंअजय चन्द्रवंशी
हिंदी दलित कथा साहित्य की सैद्धान्तिकी एवं व्यवहार मनीष साहू
हिन्दी दलित कविता के मूल्यांकन का पहला पड़ाव   अनुज कुमार
प्रेम की पाती छोटूराम मीणा  
रंगमंच 
ब्लू-फैदर द्वारा मोलियर के नाटक का मंचनशाहनवाज खान